Neend Ki Goliyan Khani Padi, Sad Shayri

 Neend Ki Goliyan Khani Padi, Sad Shayri 

Neend Ki Goliyan Khani Padi, Sad Shayri

Tujhse Ishq Karne Ki Keemat Kuch Yoon Chukani Padi Hai

Neend Roothi Hai Aankhon Se Iss Qadar 

Ki Sulane Ke Liye Khud Ko 

Mujhe Neend Ki Goliyan Khani Padi Hai

तुझसे इश्क करने की कीमत कुछ यूं चुकानी पड़ी है 

नींद रूठी है आंखों से इस कदर 

कि सुलाने के लिए खुद को 

मुझे नींद की गोलियां खानी पड़ी है


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ