muskan shayari | मुस्कान शायरी इन हिंदी

muskan shayari | मुस्कान शायरी इन हिंदी 

muskan shayari | मुस्कान शायरी इन हिंदी

❝मेरा असली दर्द तो सिर्फ मेरा खुदा जानता है,

तुमने तो सिर्फ मेरी नकली मुस्कान देखी है।❜❜

----------------------------------------------------------------

❝गिरते हुए आँसुओं को कौन देखता है,

झूठी मुस्कान के दीवाने हैं सब यहाँ।❜❜

----------------------------------------------------------------

दिन बीत जाते है सुहानी यादे बन कर,
बाते रह जाती है बन कर कहानी
ये प्यार तो हमेशा दिल के करीब रहेंगा,
कभी मुस्कान, कभी आंखो का बनकर पानी

----------------------------------------------------------------

आप जो सो गये तो ख्वाब हमारा आएगा,
एक प्यारी सी मुस्कान आपके चेहरे पर लाएगा,
❣️
खिड़की दरवाजे दिल के खोलकर सोना,
वरना आप ही बताओ हमारा ख्वाब कहाँ से आएगा..!!

----------------------------------------------------------------

दर्द भरी मुस्कान बेहद खूबसूरत होती हैं,

बारिश के बाद ही तो इंद्रधनुष अद्भुत लगता हैं।

----------------------------------------------------------------

हर सुबह आपको सलाम दे,
हर फूल आपको मुस्कान दे,
हम दुआ करते हैं कि,💓
खुदा आपको नये सवेरे के साथ कामयाबी का नया आसमान दे।

----------------------------------------------------------------

इश्क के बाजार में ना बिकने वाला एक पहलू था मैं...

वो लबों पर मुस्कान लेकर आया और मेरा खरीदार बन गया...

----------------------------------------------------------------

❝कितने बदल गये है आज के रिश्तें भी​,

​चंद मुस्कान के लिये चुटकुले सुनाने पड़ते हैं।।❜❜

----------------------------------------------------------------

❝मैं चीज़ महंगी और नायाब बेचता हूं जनाब,

लोग ईमान बेचते हैं और मैं मुस्कान बेचता हूं।❜❜

----------------------------------------------------------------

❝सीधा सादा डाकीया, जादु करें महान,

एक ही थैलेमे भरे, आँसु और मुस्कान।❜❜

----------------------------------------------------------------

उनके 😘आते ही तो महफ़िल में जान आ गयी... 💕 ❤️ 

एक हरकत होते ही होठों पे जबान आ गयी.... 💕 ❤️💞 

इशारे नजरों👀 से वो यूँ नगमा सुना कर गये.. 💕 ❤️ 💞

हमारी पलकों😍 में हया से मुस्कान🤗 आ गयी........ 💕

----------------------------------------------------------------

❝तेरी मुस्कान से सुधर जाती है तबियत मेरी,

बताओ ना तुम इश्क़ करते हो या इलाज़।❜❜

----------------------------------------------------------------

उसकी प्यारी मुस्कान होश उड़ा देती है, 
उसकी प्यारी आँखे हमे दुनिया भुला देती है,
आएगी आज भी वो मेरे स्वप्नों में यारों,
बस यही उम्मीद हमे रोज़ सुला देती है …!

----------------------------------------------------------------

❝मुस्कान के सिवा कुछ न लाया कर चेहरे पर, 

मेरी फ़िक्र हार जाती है तेरी मायूसी देखकर।❜❜

----------------------------------------------------------------

हर सुबह आपकी इतनी सुहानी हो जाए,
कि गम की हर बात पुरानी हो जाए।
खिले मुस्कान आपकी ऐसे कि,
ख़ुशी भी आपकी दीवानी हो जाए।

----------------------------------------------------------------

❝हां आज मुस्कराने की वजह हम ढूँढ़ते है 
बस चंद ख़ुशियों का निशां हम ढूंढते है ।

मिलती है मुस्कान बोलो किस शहर में 
यूं शहर ए ख़ुशियों का पता हम पूछते हैं ।

किस गली आ जाए ख़ुशियों की वजह  
अब हर डगर को हम नज़र से चूमते है ।

देख कर उनको क्यों ये शरमाई नज़र 
वो उनकी नज़रों का असर हम ढूँढ़ते हैं ।

अब पूछते हैं सब वजह इस मुस्कान की
सुन चुप रहूं तो यूं बेवजह मुझे घूरते हैं ।

इस दुनिया की नज़रों से बचकर"दीप" आ चलें 
यहां प्यार के दुश्मन हैं खुशियां लूटते हैं ।

देते हैं ताने जमाने वाले हम न मिल सकेंगे 
तो कहदो रूह के रिश्ते भला कब छूटते है ।

मेरे चहरे की हंसी "जय" तुम्हारे दमसे है
अरे वो लोग नादा हैं बजह जो पूछते हैं।❜❜

----------------------------------------------------------------

❝गिरते आंशुओ को कौन देखता है,

यहाँ सब जूठी मुस्कान के दीवाने है।❜❜

----------------------------------------------------------------

उनका मुरझाया हुआ चेहरा 
अच्छा नहीं लगता।
उनके होठों पर न मुस्काने का 
पहरा अच्छा नहीं लगता।
सोचता हूँ कि उनसे रूठकर 
न बोलूँ कभी,
पर उनकी पलकों पर 
कोई आँसू ठहरा अच्छा नहीं लगता।

----------------------------------------------------------------

मुस्कान की कोई वजह ना पूछ,
अश्क क्या है सज़ा ना पूछ…
नया साल है अंदाज़ नया रख,
दिल मे आज जज़बात नया रख।। 

----------------------------------------------------------------

❝मेरे चेहरे पे मुस्कान देखकर वो कहने लगे,

बिना दर्द के महफ़िल में रौनक नहीं होती।❜❜

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ