Murshad shayari In Hindi - Murshid Hindi Shayari

Murshad shayari In Hindi - Murshid Shayari

Murshad shayari In Hindi - Murshid Shayari

Ye jo mohabbat Ke Khatir Mar Jaate Hai

Mujhe Batao Murshad Kya Mohabbat Mein Jayaj Hai

ये जो मोहब्बत के खातिर मर जाते हैं 

मुझे बताओ मुर्शद क्या मोहब्बत में ये जायज है

Aur Jo Mohabbat Mohabbat Ki Izzat Na Kare

Murshad

Wo Mohabbat Kaisi

और जो मोहब्बत मोहब्बत की इज्जत ना करें 

मुर्शद

वो मोहब्बत कैसी

Aur Mujhse Meri Khushiyan chhin Ke  murshad  

Rahega To Yahi na Jayega Kahan Yeh

और मुझसे मेरी खुशियां छीन के
मुर्शद

रहेगा तो यही ना जायेगा कहां ये

Murshad shayari In Hindi - Murshid Shayari

Murshad Wo Dhokebaj Nikle 

Hum Se Mile Tak Nahin 

Hamari Gali Se Vo Aaj Nikale

मुर्शद वो धोखेबाज निकले 

हमसे मिले तक नहीं 

हमारी गली से वो आज निकले

Kuchh Mujhe Jaise Bhi Sarfira Aashiq Hote Hain Murshad 

Inhen Mohabbat To Chahie Magar Mohabbat Mein Mehboob Qubool Nahin

कुछ मुझ जैसे भी सरफिरे आशिक होते हैं मुर्शद 

इन्हें मोहब्बत तो चाहिए मगर मोहब्बत में महबूब कुबूल  नहीं

Aur Deewangi Ki Had Na Pucho Murshad

Pagal Ho Gaya Tha Main maine Haath Ki Nase Tak Kaat Li Thi Uske Peeche

और दीवानगी की हद ना पूछो मुर्शद

पागल हो गया था मैं मैने हाथ की नसे तक काट ली थी उसके पीछे

Murshad shayari In Hindi - Murshid Shayari

Wo Toh Mohabbat Ho Gayi Hume Murshad

Warna Hum Bhi Koi Bade Aadmi Hote Aaj

वो तो मोहब्बत हो गई हमें मुर्शद

वरना हम भी कोई बड़े आदमी होते आज

Kismat Ka Rona Rone Waale 

Murshid 

Kuch Kar Nahi Paate Zindgi Mein

किस्मत का रोना रोने वाले 

मुर्शद

कुछ कर नही पाते जिन्दगी में

Aur Ye Uski Yaadein Murshad

Dekhna Bhari Jawani Mein Maar Dalegi Mujhe

और ये उसकी यादें मुर्शद

देखना भरी जवानी में मार डालेगी मुझे

Murshad shayari In Hindi - Murshid Shayari

Milta Kya Hai Inhein Marke

Murshad

Mohabbat Mein Log Jo Ye Mar Jaate Hai

मिलता क्या है इन्हें मर के 

मुर्शद 

मोहब्बत में लोग जो ये मर जाते हैं

Main Fakeer Tha Uske Liye

Aur fakiron Ko Murshad Bheekh Milti Hai Mohabbat Nahi

मैं फकीर था उसके लिए 

और फकीरों को मुर्शद भीख मिलती है मोहब्बत नहीं 

Main Koshish Karu Bhi Agar Use Bhulane Ki

Murshad 

Nakam Ho Jaati Hai Har Koshish Meri

मैं कोशिश करुँ भी अगर उसे भुलाने की

मुर्शद

नाकाम हो जाती है हर कोशिश मेरी

Murshad shayari In Hindi - Murshid Shayari

Mohabbat Pe Aitbaar Na Kiya Karo Murshad 

Mohabbat Khairaat Mangti Hai

मोहब्बत पे एतबार ना किया करो मुर्शद  

मोहब्बत खैरात मांगती है

Wo To Humein Unki Judaai Maar Gayi Murshad 

Warna Umar Hamari Bhi Bahut Lambi Likhi Thi Us Khuda Ne

वो तो हमें उनकी जुदाई मार गई मुर्शद

वरना उम्र हमारी भी बहुत लंबी लिखी थी उस खुदा ने

Hum Roye Nahi To Aur Kya Kare Murshad 

Karke Haal Majnu Jaisa Hamari Laila Kisi Or Ke Saath Bhagi Hai

हम रोए नहीं तो और क्या करें मुर्शद 

करके हाल मजनू जैसा हमारी लेला किसी और के साथ भागी है

Murshad shayari In Hindi - Murshid Shayari

Ab Mohabbat Pe Wo Aitbaar Raha Nahi Murshad

Chikhe Meri Rooh Ki Mohabbat Ko Baduaa Deti Hai

अब मोहब्बत पे वो एतबार रहा नहीं मुर्शद 

चीखे मेरी रूह की मोहब्बत को बद्दुआ देती है

Agar Koi Mujhe Meri Mohabbat Dila De Murshad

Badle Mein Apna Main Use Sab Kuch Dene Ko Taiyaar Hoon

अगर कोई मुझे मेरी मोहब्बत दिला दे मुर्शद 

बदले में अपना मैं उसे सब कुछ देने को तैयार हूं

Bohot Der Ho Chuki Hai Murshad

Ab Unne Bhulna Namumkin Hai

बहुत देर हो चुकी है मुर्शद 

अब उन्हें भूलना नामुमकिन है

Murshad shayari In Hindi - Murshid Shayari

Aqsar Mere Saath Hota Hai Aisa Murshad

Khushiyan Mere Chehre Ko Dekhkar Udaas Ho Jaati Hai

अक्सर मेरे साथ होता है ऐसा मुर्शद 

खुशियां मेरे चेहरे को देखकर उदास हो जाती है

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ